शख्सियत


‘मिस्टर यूनिवर्स’ भरत सिंह वालिया

चंडीगढ़ के बॉडी बिल्डर भरत सिंह वालिया ने मियामी अमेरिका में प्रतिष्ठित बॉडी बिल्डिंग प्रतियोगिता ‘मसल मेनिया’ में मिस्टर यूनिवर्स का टाइटल जीतकर भारत का नाम रोशन

किया। इसके लिए वे बधाई के पात्र हैं। आइये जानते हैं उनके जीवन के कुछ पहलू :
चंडीगढ़ से पासआउट और एक २३ वर्षीय पेशेवर बॉडीबिल्डर, भरत सिंह वालिया ने हाल ही में मियामी (यूएसए) में आयोजित एक प्रतिष्ठित बॉडी बिल्डिंग प्रतियोगिता ‘मसल मैनिया’ में ‘मिस्टर यूनिवर्स’ का खिताब जीता है।

इससे पहले सिंगापुर में वह ‘मिस्टर इंडिया’ खिताब जीत चुके हैं। अब नवंबर माह में, भरत सिंह अमेरिका के लास वेगास में भारत का प्रतिनिधित्व करेंगे।
भरत सिंह वालिया रायपुर-रानी, हरियाणा के निवासी हैं, और उनके पिता चंडीगढ़ पुलिस में काम करते हैं। जिम शुरू करते ही भरत सिंह को एहसास हो गया था कि उनका शरीर बहुत अच्छे से रेस्पोंस कर रहा है और जल्दी ही अच्छी शेप में आ गया। भरत सिंह कहते हैं, ‘जिम’ हमेशा से मेरा स्ट्रेस बस्टर रहा है। यही मेरा मेडिटेशन है, और वर्कआउट करने से मैं तरोताजा हो जाता हूं।’ खाली समय में वह ऑनलाइन वर्कआउट कोचिंग भी देते हैं। भरत ने बताया, ‘शुरू में मेरे माता-पिता ने बॉडी बिल्डिंग के मेरे जुनून को हल्के में ले लिया था। मैं जिम के लिए अपनी ट्यूशन क्लास बंक कर देता था, क्योंकि परिवार को मेरा जिम जाना

पसंद नहीं था। हालांकि मैं अन्य किसी को ऐसा करने की राय नहीं दूंगा। जब मैंने हैल्थ
सप्लीमेंट लेने की सोची, लेकिन प्राइस ज्यादा होने की वजह से उसे खरीदने के लिए मेरे मेरे पास पर्याप्त पैसे ही नहीं थे। पैसे कमाने के लिए, मैंने एक महीने तक एक जिम में काम किया। लेकिन मेरे लिए ख़ुशी की बात थी, कि जल्द ही, माता-पिता ने मुझ पर भरोसा करना शुरू कर दिया, और अब तो वे पूरी तरह से मुझे सपोर्ट करते हैं।
अपने आहार के बारे में बात करते हुए, भरत सिंह ने कहा कि मैं आर्टिफिशियल फूड की बजाय नेचुरल फूड को प्राथमिकता देता हूँ। बॉडी बिल्डिंग के पहले दो वर्षों तक उन्होंने कोई सप्लीमेंट नहीं लिया। अब भी वह इसके बजाय, विटामिन एवं प्रोटीन से भरपूर प्राकृतिक भोजन लेते हैं। वह कहते हैं कि हर किसी के शरीर का मेटाबॉलिज्म अलग होता है, इसलिए किसी अन्य की सलाह को आंख मूंदकर नहीं मानना चाहिए।
भरत सिंह ने 15 साल की उम्र में शुरू की ट्रेनिंग, और 8 साल की ट्रेनिंग के बाद जीता कैरियर का सबसे बड़ा टाइटल भरत सिंह ने कंपीटिशन लड़ने की शुरुआत २०१६ में डीएवी कॉलेज में की थी। पेरेंट्स और दोस्तों ने कंपीटिशन करने के लिए हौसला बढ़ाया। डीएवी कॉलेज की ओर से खेलते हुए सिल्वर मेडल जीता। भरत सिंह ने इससे पहले ‘मिस्टर इंडिया’ का टाइटल भी जीता था। बतौर भरत सिंह मेरे लिए ये करियर की शुरुआत है, और अभी काफी दूर जाना है। मैंने सप्लीमेंट्स लेने पर कभी जोर नहीं दिया। मैं ज्यादा विटामिन लेता हूं और अपनी डाइट में प्रोटीन लेना पसंद करता हूं। भरत सिंह का कहना है कि सभी इसे फॉलो न करें, क्योंकि हर किसी की बॉडी अलग तरह की होती है।

%d bloggers like this: