अंकुरित खाद्य पदार्थों के सेवन से लें स्वास्थ्य लाभ … !


प्रायः घर में बुजुर्गों द्धारा रात को अक्सर काले चने, खसखस आदि खाने की चीजों को भिगोकर अगले दिन उनका सेवन करके लाभ लेते थे। इसीलिए उस समय कम ही लोगों को ज्यादा उम्र में गंभीर रोग होते थे। आयुर्वेद में भी अंकुरित खाने की चीजों को बनाकर खाने के लाभ बताये गए हैं।

आज यहां हम कुछ और चीजों को इसी तरह से सेवन करने के फायदे बता रहे हैं।

१.. बादाम : इसमें भरपूर मैग्नीशियम होता है। यह हाई बीपी को कंट्रोल करता है। इसके अलावा एक रिसर्च के अनुसार यदि भीगे हुए बादाम नियमित सेवन किये जाएँ तो एलडीएल यानी खराब कोलेस्ट्रॉल का लेवल कम हो जाता है। ये प्रत्येक ब्यंजनों में भी इस्तेमाल किये जाते हैं।

२.. काले चने :  यह सर्व विदित है, कि अंकुरित काले चने के सेवन में भरपूर मात्रा में फाइबर हमे मिलता है। यह कब्ज की समस्या में मदमददगार होता है। इसमें प्रोटीन होने से मसल्स बनाने में आसानी होती है। तथा नियमित सेवन से थकान दूर होती है।

३.. खसखस : इसमें थियामिन, फोलेट और पेंटाथोनिक

एसिड के अच्छे सोर्स मिलते हैं। इसमें मौजूद विटामिन बी मेटाबॉलिज्म को भी बढ़ाता है, जिस वजह से वजन नियंत्रित करने में मदद मिलती है। इसके अलावा यह हमारा इम्यूम सिस्टम को स्ट्रोंग करता है। यदि  नजला, जुकाम के पुराने रोगी को एक रात पहले भिगोई खसखस को देशी घी में भूनकर बराबर मात्रा में गाय का दूध मिलाकर तैयार करके दो चम्मच नियमित तोर पर सुबह – शाम दिया जाये तो वो रोग से मुक्त हो जाता है। 

४.. मेथीदाना :  इसमें फाइबर भरपूर मात्रा में होने से कब्ज को दूर कर, आँतों को साफ करने में मददगार होती है। इसके अतिरिक्त डायबिटीज के मरीजों के लिए तो ये एक रामबाण ओषधि का काम करती है। घुटनों के दर्दों में फायदेमंद के अलावा महिलाओं के पीरियड्स के समय होने वाले दर्द को कम करने में मददगार होती है। 

५.. मुनक्का : इसमें पोटेशियम, मैग्नीशियम और आयरन काफी

मात्रा में होती है। यह स्किन को हेल्दी और चमकदार बनाती है। मुनक्के के नियमित सेवन से कैंसर कोशिकाओं में बढ़ोतरी रुक जाती है। एनीमिया और किडनी के स्टोन में मुनक्का फायदेमंद होता है।

६.. अलसी : ओमेगा ३ फैटी एसिड का अलसी या फ्लैक्स सीड्स एकमात्र शाकाहारी सोर्स माने गए हैं। फ्लैक्स सीड्स

न्यूरो – डिजनरेटिव रोगों के रोकथाम में महत्वपूर्ण योगदान मानते हैं। ये बैड कोलेस्ट्रॉल ( एलडीएल ) को कम करके हमारे दिल को स्वस्थ बनाता है। प्रायः घरों में पुराने लोग सर्दियों में अलसी की पिन्नी ( लड्डू ) बनाकर खातें हैं।

७.. किशमिश : किशमिश में एंटीऑक्सीडेंट भरपूर मात्रा में होने से, और इसका नियमित सेवन एक रात पहले भिगोकर किया जाये, तो स्किन हेल्दी और चमकदार होती है। इसके अलावा इसमें आयरन भी होता है। इसी कारण से इसको नियमित भिगोकर लेने से एनीमिया के रोगियों

के लिए भी फायदेमंद होता है।  

८.. साबुत मूंग : यह फाइबर, प्रोटीन और विटामिन बी का एक बेहतरीन सोर्स है। इसमें पोटेशियम और मैग्नीशियम भरपूर मात्रा में होने और नियमित सेवन से हाई बीपी को कंट्रोल करता है। इसके अलावा नियमित सेवन से कब्ज से छुटकारा भी मिलता है।

 

९.. अखरोट :  ओमेगा ३ s, विटामिन ई, बी ६ , कैल्शियम के अतिरिक्त कई मिनरल्स होते हैं। जैसा की इसकी साबुत निकली गिरी की शेप के अनुसार ये हमारे दिमाग की शक्ल का होने से इसके नियमित सेवन से दिमाग की थकान दूर करके ताकत देता है। एंटीऑक्सीडेंट तत्व मौजूद रहने से कैंसर की कोशिकाओं को बढ़ने से रोकता है। महिलाओं में स्तन कैंसर को रोकने में मदद

करता है। सूजन में कमी, टाइप 2 डायबिटीज को कंट्रोल  करने, और वजन बढ़ने से रोकने में मददगार है। आँतों को स्वस्थ बनाता है।

उपरोक्त नो चीजों को खाने से पहले कम से कम एक रात तक भिगोकर रखना जरूरी है।

Advertisements
%d bloggers like this: