कहीं आपके भोजन का स्वाद न बदले …


अक्सर देखा गया हे कि घर में कोशिशों के बाद भी भोजन बच ही जाता है :

आमतौर पर महिलाएं घर में रात के बचे खाने को अगली सुबह नाश्ते में प्रयोग में लती हैं। लेकिन …. 

गर्मी का मौसम है, और इस मौसम में खाना बहुत जल्दी खराब हो जाता है। ऐसे में बचे हुए भोजन को यदि दोबारा

से इस्तेमाल करना हो, तो ठंडा होने के बाद उसे तुरन्त फ्रीज़ में रख देना चहिये। अगर भोजन को बनाये जाने के बाद दोबारा फिर से गर्म किया जा चुका है, और यदि वो मसालेदार शब्जी या दाल हो तो इनको बिलकुल भी दोबारा इस्तेमाल

न ही करें। आइये आज हम आपको कुछ ऐसे टिप्स देने जा रहें जिनसे खाना फिर से गर्म करके और इस्तेमाल करने में सुविधा होगी।

सूखी शब्जी:

सूखी शब्जी पहले पैन में थोड़ा ऑइल डालकर मध्यम आंच पर गर्म करें। फिर

उसमें शब्जी डालकर कुछ देर चलाएं।  यदि शब्जी ग्रेवी वाली ही जैसे आलूदम हैं तो पहले आलू निकाल  कर गर्म कर लें, फिर उसमें ग्रेवी डालकर थोड़ा सा पानी डाल दें। इससे ये होगा कि आपकी शब्जी का स्वाद नहीं बदलेगा।

चावल :

अक्सर बचे हुए चावल सूख जाते हैं। ऐसे में इनको स्टोर करने या दोबारा फिर से इस्तेमाल करने के लिए पैन में दाल लें फिर थोड़ा सा इन पर पानी छिड़क दें, फिर मध्यम आंच पर लगातार चलाते रहें। इससे पैन में चावल चिपगेंगे नहीं बल्कि ताजा बने रहेंगे। यदि आप माइक्रोवेव में गर्म करने जा रहें हैं, तो बॉल में चावल डालकर थोड़ा पानी छिड़क कर बॉल को ढंक कर २-३ मिनट तक गर्म करके बाहर निकाल लें। आप चाहें तो इससे पहले भी ढंक कर फ्रीज़ में रख कर स्टोर करें।

बेहतरी के लिए डायरेक्ट आंच न लगे :

शब्जी, सूप या दाल की ग्रेवी आंच पर कुछ देर रखने पर ही गाढ़ी हो जाती है। इन्हें दोबारा प्रयोग में लाने के लिए गर्म पहले पानी डालते हैं।

दोबारा गर्म करने से बचें :

मेथी और पालक को दोबारा गर्म नहीं करना चहिये। यदि दोबारा प्रयोग में लाना है, तो कुछ देर पहले फ्रीज़ से निकाल कर नॉर्मल टेम्प्रेचर में आने दें। याद रहे इनको दोबारा गर्म करने से इनके पोषक तत्व नष्ट हो जाते हैं।

कई बार हम समय बचाने के लिए न्यूडल्स और पास्ता को उबालकर रख देते हैं, और कुछ देर बाद ये सख्त और रूखे हो जाते हैं।  यदि इन्हें फिर से मुलायम व तरोताजा करना है तो एक बड़े बर्तन में पानी उबाल लें। अब स्टील की छलनी में न्यूडल्स और पास्ता को डालकर उबलें हुए पानी में डुबोएं।  इसके अलावा उबले पानी को भी इनके ऊपर डाल सकते हैं। याद रहे पास्ता को छलनी में डालकर ही ऐसा करें, वरना ये चिपचिपे हो जायेंगे।

याद रहे भोजन का सेवन, बनने के दो घंटे में ही कर लेना चहिये। इससे भोजन की पौष्टिकता बनी रहेगी। यदि इस्तेमाल के बाद बच जाये, तो तुरंत फ्रीज़ में रख देना चहिये। इससे भोजन में बैक्टीरिया भोजन को खराब नहीं कर पाएंगे। 

यदि गर्मियों में भोजन बनने के दो घंटे से अधिक सामान्य टेम्प्रेचर में रखा गया, तो बैक्टीरिया भोजन को खराब करना शुरू कर देते हैं।

शिशु आहार हमेशा ताजा ही होना चहिये। उसे कभी भी स्टोर न करें।

बचा हुआ भोजन हमेशा पहले से साफ करे हुए बर्तन में ही स्टोर करें, यानी जिस बर्तन में बनाया गया है उसमें कदापि न रखें।

गर्म भोजन को कभी भी फ्रीज़ में न रखें, सामान्य ठंडा होने पर ही स्टोर करना चहिये।

बचे हुए भोजन को फ्रीज़ में ढंककर ही स्टोर करें। इसके अलावा दो दिन से ज्यादा पुराने भोजन को कभी इस्तेमाल न करें।

बचे भोजन को कभी भी ताजे बने भोजन में मिलाकर प्रयोग न करें।

भोजन को बार – बार गर्म करने से बचे। इससे जरूरी पोषक तत्व नष्ट हो जातें।     

Advertisements
%d bloggers like this: