यदि आप युवा हैं तो फिर भी कोलेस्ट्रॉल की संभावना से रहें सचेत …


क्या आप जानते हैं …?  कोलेस्ट्रॉल बढ़ना सेहत के लिए कितना घातक  होता है। आमतौर पर यही सोचलिया जाता है, कि कोलेस्ट्रॉल बढ़ने की समस्याएं सिर्फ प्रौढ़ा अवस्था में ही  होती है। जबकि आजकल की लाइफ स्टाइल की वजह से

१८-३६ वर्ष तक के युवाओं में भी कोलेस्ट्रॉल बढ़ने की समस्याएं सामने आ रही हैं। और इसकी अनदेखी करनी इससे पीड़ितों  के लिए जानलेवा हो सकती है। इसी के कारण हाई ब्लड प्रेशर, आर्टरी ब्लॉक, हार्ट अटैक, ब्रेन स्ट्रोक आदि

खतरनाक और जानलेवा रोग हो सकते हैं।

शरीर में खराब कोलेस्ट्रॉल बढ़ने से शरीर कुछ संकेत भी देता है। लेकिन युवा अक्सर इन संकेतों की और ध्यान ना देकर या यूँ कहें सामान्य सी बात समझकर इग्नोर कर देते हैं। हालांकि यदि इन शुरुआती लक्षणों के दिखने पर ही यदि आप संभल जाएँ और अपनी लाइफ स्टाइल में बदलाव यानि सुधार कर लें, तो इनसे

होने वाले खतरों से भी बचे रह सकतें हैं। आइये जानते हैं युवाओं में बढ़ते कोलेस्ट्रॉल के लक्षण कौन से हो सकते हैं। 

अगर आपको पैदल चलने  या सीढ़ियां चढ़ने में मुश्किल आ रही है, या पहले की तुलना थोड़े से परिश्रम करने से ही अब थकान महसूस करते हैं, जिसमें साँस फूलना, धड्कनों का बहुत तेज बढ़ जाना और अंदर से कमजोरी महसूस होना, तो समझिये ये शरीर में कोलेस्ट्रॉल बढ़ने का संकेत हो सकता है। इसमें कई बार

हाथ -पैरों में झनझनाहट, चींटियां रेंगनी जैसा महसूस भी होता है। दरअसल होता ये है कि जब शरीर के अंदर धमनियों में प्लाक जमा हो जाता है, तो जिन अंगों में ऑक्सीजन युक्त ब्लड नहीं पहुंच पाता, वहां झनझनाहट सी होने लगती है। यदि आपको हाथ -पैरों में सिहरन जैसे लक्षण और लक्षणों के साथ दिखें तो

ऐसे में तुरंत  कोलेस्ट्रॉल की जाँच जरूर करवानी चहिये।

इसके अतिरिक्त यदि गर्दन, पीठ और  पेट के ऊपरी हिस्से में दर्द होने को नजरअंदाज कर देते हैं। क्योंकि हम समझते हैं ये दर्द आड़ा या तिरछा सोने, बैठने से हुआ होगा। जबकि ये देखा गया है कि शरीर के इन हिस्सों में होने वाला सामान्य सा दर्द भी बड़े हुए कोलेस्ट्रॉल का ही संकेत हो सकता है। जबड़ों और सीने में होने वाला दर्द हार्ट अटैक का शुरुआती लक्षण हो सकता है।

इसके अलावा आँखोँ के ऊपर की त्वचा पर पीले धब्बे या पपड़ी जैसे त्वचा का दिखना भी शरीर में कोलेस्ट्रॉल बढ़ने का संकेत होता है। जब वसा की मात्रा खून में बढ़ जाती है तब भी  होता है।  ये पीले धब्बे डायबिटीज होने का भी संकेत देता है।

यदि आपको कभी कभार बेचैनी होती हो, और माथे और शरीर पर पसीना निकलने लगता है, तो भी ये कोलेस्ट्रॉल बढ़ने का संकेत है। दरअसल कोलेस्ट्रॉल ज्यादा बढ़ जाने की वजह से खून दिल तक पर्याप्त मात्रा में नहीं पहुंचता, जिस वजह से दिल कम मात्रा में खून को पंप करने लगता है। इसी के कारण ब्यक्ति

को साँस लेने में बेचैनी, थकावट और पसीना आने लगता है।

आज के युवा को चहिये वो २२ साल की ऐज में एक बार कोलेस्ट्रॉल की जाँच जरूर कराएं। और यदि आपके परिवार  में  किसी को किसी को कोलेस्ट्रॉल बढ़ने की प्रॉब्लम रही है तो ये आपके लिए चिंता का विषय है। ऐसे में किसी डॉक्टर से सलाह जरूर लेनी चहिये। इसके अलावा अपने आहार-विहार पर ध्यान देने की विशेष आवश्यकता है। और यदि समय रहते नियमित जाँच, आहार-विहार पर ध्यान दिया गया, तो आप ना केवल जानलेवा  बीमारी से दूर रह सकेंगे, बल्कि आगे का समय आनंद पूर्वक बिता पाएंगे।

Advertisements
%d bloggers like this: