ग्लोबल वार्मिंग की वजह से रंग बदलता मौसम


लगभग पिछले माह से मौसम के बदलते रंग ने अपना तल्ख रवैया अख्तियार किया हुआ हे। हालाँकि इसके पीछे ग्लोबल वार्मिंग का ही इफ़ेक्ट हे…..
मार्च का महीना समाप्त कोने को हे , लेकिन मौसम की तल्खी ज्यों की त्यों बनी हुई हे , वैसे तो मनुष्य के शरीर को कुदरत ने इतनी शक्ति दी हे की ये मौसम
के उठा पटक से तापमान में हुए उतार चढ़ाव के अनुसार अपने को ढाल सके…., लेकिन कभी कभी मनुस्य का इम्युनिम सिस्टम गच्चा खा जाता हे… यही समय मनुष्य के लिए सेंसेटिव होता हे…., दरअसल सुबह मौसम का मिजाज कुछ होता हे और शाम को कुछ और होता हे,… पिछले दिनों लगा सर्दी गयी समझो ,
घर में सर्दियों के कपड़े धोकर क़रीने से पैक करके रख दिए गए…., लेकिन ये क्या, अचानक से आसमान में बादल उमड़ते हुए आये और छा गए, वर्षा की बूंदे
बरसने लगती हैं… , तापमान में फिर से गिरावट आ जाती है, मौसम के बदलते तेवर से मनुष्य के शरीर को भी तापमान के उतार चढ़ाव के अनुसार शारीरिक
तापमान का बैलेंस बनाने के लिए आंतरिक ऊर्जा खर्च करनी पड़ती है , या यूँ कहें की शरीर की अतिरिक्त ऊर्जा खर्च हो जाती है। .,इसी वजह से शरीर की कई
क्रियाएं अस्त – ब्यस्त हो जाती हैं, इन्ही क्रियाओं के कारण ही शरीर का इम्युनिम सिस्टम स्ट्रोंग रखने के अलावा शरीर की रक्तवाहिनी और स्वसन नालियों
को नियंत्रित रखना होता हे। इस आकस्मिक ऊर्जा खर्च होने से इन क्रियाओँ पर असर पड़ता है । वायु मंडल में बैक्टीरिया, फंगस, वायरस आदि जीवित अवस्था में मौजूद रहते हैं, तथा इस बदलते मौसम में ये सक्रिय हो जाते हैं, और अटैक की मुद्रा में आ जाते हैं…., शरीर में साँस के द्वारा ये श्वसन तंत्र में और
रक्तवाहिनी में जो श्वसन तंत्र से कंट्रोल होती है, में प्रवेश कर जाते हैं। वहां की प्रकिया को नष्ट कर देते हैं, इसका असर मनुष्य के शरीर में सर्दी, जुकाम,
एलर्जी , छींकें, बुखार के रूप में होता है ।
इस बदलते मौसम के कारण तापमान में हुए उतार चड़ाव से शरीर में दर्द, जकड़न जैसी समस्याएं हो जाती हैं।
बचाव कैसे करें….!

एकदम से कपड़े चेंज न करें, कुछ दिन सहन करें। बच्चो का विशेष ख्याल रखें , शरीर को ढक कर रखें । अन्दर इनर पहने रखें । गुनगुने पानी का सेवन करें। पंखें, कूलर AC ना चलायें।
फिजिकल वर्क करते रहें, शरीर हरकत में रहेगा, दर्द में कमी होगी,
हरी शब्जी, फल,दही, ओट्स, हो सके कच्चे लहसुन की कलियाँ खाएं इसमें एंटीऑक्सीडेंट तत्व होते हैं, ग्रीन टी लें, याद रहे एक या दो टाइम ही एक या दो
कप लें, कार्बोहइड्रेट वाली चीजें ले, ड्राई फ्रूट्स (बादाम, अखरोट), केला खाएं। इससे शरीर का इम्यून सिस्टम ठीक होगा ।

Advertisements
%d bloggers like this: